सिंघू बॉर्डर पर धरा गया संदिग्ध, 4 किसान नेताओं को गोली मारने की थी साजिश

चार किसान नेताओं को गोली मारने की मंशा से वहां मौके पर पहुंचा था एक संदिग्ध
चार किसान नेताओं को गोली मारने की मंशा से वहां मौके पर पहुंचा था एक संदिग्ध

नई दिल्ली :-  बीते दिन शुक्रवार को सिंघू बॉर्डर पर धरना प्रदर्शन करते किसानों ने एक संदिग्ध को पकड़ा जिसने अपनी बात रखते हुए कहा कि वह कथित तौर पर चार किसान नेताओं को गोली मारने की मंशा से वहां मौके पर पहुंचा था और उसका मुख्य मकसद सिर्फ़ और सिर्फ़ 26 जनवरी को प्रस्तावित किसानों के ट्रैक्टर मार्च में अड़चन पैदा करना भी है. इस संदिग्ध ने बताया कि इनकी 10 लोगों की टीम यहां काम कर रही है, जिसमें से दो महिलाएं भी शामिल हैं. हालांकि, बाद में संदिग्ध को पुलिस के हवाले कर दिया गया है.

वहीं, किसान नेता कुलवंत सिंह ने सिंघू बॉर्डर पर की गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपना पक्ष सांझा करते हुए कहा है कि इस समय चारों ओर से किसानों के आंदोलन में बाधा डालने की लगातार कोशिश की जा रही है. उन्होंने आगे कहा कि मास्क पहने इस संदिग्ध शख्स और उसके सहयोगियों को धमकाया गया है कि अगर उन्होंने कुछ भी जानकारी उगली तो उनके घर में रहने वाले सदस्यों को मार दिया जाएगा.

विशेष रूप से मिडिया के साथ हुई संदिग्ध की वार्ता का अंश

एक ओर मीडिया से बात करते समय इस संदिग्ध व्यक्ति ने कहा, ‘हमने 26 जनवरी को किसानों को ट्रैक्टर रैली के लिए आगे बढ़ने से रोकने की नीति बनाई थी और अगर वे फ़िर भी नहीं रुकते है तो हम पहले एक बार हवा में फायरिंग करते और फ़िर हमारे दूसरे सहयोगी पीछे से गोली चलाते जिससे कि, वहां मौक़े पर मौजूद पुलिस वालों को यह लगता कि उनके किसान गोली चलाई जा रही है. हम कुल दस लोग एक ही टीम में शामिल है, जिनमें से 2 महिलाएं भी हमारे साथ हैं.’

माहौल ख़राब करने के लिए दिए गए हैं पैसे- संदिग्ध

इसके बाद संदिग्ध ने अपनी ही बात को विस्तार पूर्वक रखते हुए कहा कि ‘हमारी टीम को यहां कुल दो जगहों पर हथियार दिए गए थे. 26 जनवरी के लिए हमारी ओर से यह योजना बनाई गई थी कि टीम के आधे सदस्य पुलिस की वर्दी पहने रहेंगे जिससे किसानों के समूहों को तितर -बितर कर सकें और ऐसा करते समय हमें किसी कठिनाई का सामना न करना पड़े. हमें उन चार लोगों की तस्वीरें भी सांझा कर दी गई थी, जिन्हें हमने गोली मारनी थी. इस मामले में हमें निर्देश देने वाला शख्स एक पुलिसवाला ही है. मेरे साथी अभी भी यहां मौके पर परएक्टिव है. हम सभी लोग केवल पैसे के लिए काम कर रहे है’.

अंत में संदिग्ध व्यक्ति ने कहा कि मै विनती करता हूं कि हमारे परिवार वालों को इसकी खबर न हो कि हम ऐसा कुछ भी ग़लत काम कर रहे हैं.

nextinformation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

52 साल पहले दादा की हत्या, पोते ने अब लिया बदला..

Sat Jan 23 , 2021
रोहतक । हरियाणा के रोहतक के गांव मकडोली कला में 52 साल पहले हुई, दादा की हत्या का बदला लेने के लिए 28 साल के पोते ने 76 साल वर्षीय पड़ोसी रिटायर फौजी की पेट में तलवार मार कर हत्या कर दी. फौजी की पुत्र वधू से बचाने के लिए दौड़ी […]
दादा की मौत का बदला लेने के लिए पोते ने नवल सिंह को मारा