भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा में 68 साल के किसान भरत सिंह राणा की जान चली गई

भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा में 68 साल के किसान भरत सिंह राणा की जान चली गई
भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा में 68 साल के किसान भरत सिंह राणा की जान चली गई

सांसद सैनी का आरोप- कांग्रेस, चढ़ूनी व निर्मल सिंह के गुंडों ने किया जानलेवा हमला..

किसान के बेटे ने कहा- अस्पताल पहुंचाने में बाधा डाली, 5 मिनट की जगह आधा घंटा लग गया..

नए कृषि कानूनों के समर्थन में भाजपा की ट्रैक्टर यात्रा निकालने और भाकियू के चढ़ूनी गुट की इसे रोकने की जिद में 68 साल के किसान भरत सिंह राणा की जान चली गई। नारायणगढ़ क्षेत्र में केंद्रीय राज्य मंत्री रतनलाल कटारिया व कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सैनी के नेतृत्व में निकाली जा रही यात्रा में राणा भी एक ट्रैक्टर पर थे। रास्ते में भाकियू के झंडे लिए खड़ी भीड़ ने यात्रा रोक ली।

तभी राणा की तबीयत खराब हुई और उन्हें बाइक से कुछ दूरी पर स्थित पसरीजा नर्सिंग होम ले जाया गया। वहां डॉ. रमेश पसरीजा ने राणा को मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर ने हार्ट अटैक का अंदेशा जताया है। सांसद ने आरोप लगाया कि कांग्रेस, भाकियू के गुरनाम सिंह चढ़ूनी व पूर्व मंत्री निर्मल सिंह के गुंडों ने यात्रा पर डंडों व पत्थरों से हमला किया।

किसान को नीचे पटका गया। यह हत्या है। कुछ देर बाद किसान के बेटे भूपेंद्र ने शिकायत दी, जिसमें कहा गया कि मिलन पैलेस के पास कांग्रेस व चढ़ूनी ग्रुप के लोगों ने सड़क जाम कर उपद्रव मचाया। ट्रैक्टर पर हमला किया। पिता से धक्का-मुक्की की, जिससे वे गिर पड़े। अस्पताल ले जाने में भी हमलावरों ने बाधा पैदा की। जो अस्पताल 5 मिनट की दूरी पर था, वहां पहुंचने में आधा घंटा लग गया। डॉक्टर ने कहा कि यहां लाने में देरी की वजह से जान गई।

युजवेंद्र चहल की मंगेतर धनश्री ने फिर मचाया तहलका..

11 किमी. यात्रा, लगे 4 घंटे

नारायणगढ़ की सैनी धर्मशाला से शहजादपुर मंडी तक 11 किमी का सफर तय करने में यात्रा को 4 घंटे लगे। भाकियू के विरोध के चलते 2 घंटे तो मिलन पैलेस के पास से 1 किलोमीटर गुजरने में ही लग गए।

सांसद ने करवाया झूठा केस: भाकियू

भाकियू चढ़ूनी गुट के जिलाध्यक्ष मलकीत सिंह साहिबपुरा, ग्रामीण प्रधान जय सिंह जलबेड़ा, सुखविंद्र जलबेड़ा, लखनौरा के जंटी, फकीरचंद बुढाखेड़ा,भूखड़ी के जसविंद्र सिंह व अमरजीत पर हत्य व साजिश आदि के आरोप हैं। मलकीत ने कहा सांसद सैनी ने झूठा केस करवाया है।

इधर, बैठक में नहीं पहुंचे कृषि मंत्री, किसानों ने किया बहिष्कार

कृषि भवन बुलाए गए 29 किसान संगठनों के नेताओं ने बैठक का बहिष्कार कर दिया, क्योंकि बैठक कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बजाय सचिव के साथ होने वाली थी।

nextinformation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हाथरस के अस्पताल से खाली हाथ लौटी CBI..

Thu Oct 15 , 2020
हाथरस :- उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 साल की दलित युवती से कथित गैंगरेप और मौत के मामले में जिला प्रशासन और पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है। इसका खुलासा CBI की जांच में हुआ है। बीते मंगलवार को जांच टीम हाथरस जिला अस्पताल में सबूत जुटाने पहुंची। […]
हाथरस के जिला अस्पताल में विक्टिम का 14 सितंबर को इलाज हुआ था।